आप यहाँ पर हैं
होम > इंडिया (India) > प्रसून वाजपेयी के बाद अब इस महिला पत्रकार ने भी छोड़ा आज तक चैनल, इस चैनल पर आयेंगी नजर

प्रसून वाजपेयी के बाद अब इस महिला पत्रकार ने भी छोड़ा आज तक चैनल, इस चैनल पर आयेंगी नजर

जैसा कि आप सब जानते हैं कि आज के दौर में भारतीय पत्रकारिता का हाल बेहाल हो चुका है। आपको बता दें कि इसका नतीजा यह है कि ज्यादतार पत्रकार सरकार के इशारों पर नाच रहे हैं और जो अभी भी अपने उसूलों पर कायम हैं।

ritul joshi रितुल जोशी leaves aaj tak channel

वो हिंदूवादी गुंडों की गुंडागर्दी का शिकार बन रहे हैं। हाल ही में देश के जाने-माने न्यूज़ चैनल एबीपी में मची घमासान आपके सामने है। हाल ही में मोदी सरकार के कारण देश के कई पत्रकारों की नौकरी जा चुकी है।

1. मोदी राज में बढ़ चुका है फ़र्ज़ी खबरों का दौर

Image result for ritul joshi left aajtak

गौरतलब है कि देश के पत्रकारों की काफी फैन फोल्लोविंग होती है। जिन्हे जनता फॉलो करती है और उनके द्वारा बताई जा रही खबरों पर यकीन करती है। लेकिन आज के वक़्त में गोदी मीडिया द्वारा फ़र्ज़ी खबरों का दौर चल निकला है।

2. बेबाक पत्रकारिता के लिए जानी जाती हैं रितुल जोशी

Image result for ritul joshi left aajtak

बात करें आज तक न्यूज़ चैनल की तो यह देश के प्रतिष्ठित इंडिया टुडे ग्रुप का जाना माना न्यूज़ चैनल है। जिसे हर दिन देश के लाखों लोग देखते हैं।

आजतक के जरिए देश के कई पत्रकारों ने अपनी अलग पहचान बनाई है। इन्हीं में से एक हैं महिला पत्रकार रितुल जोशी। जो कि चैनल पर उनके अलग अंदाज और बेबाक पत्रकारिता के लिए जानी जाती हैं।

3. आजतक से गायब हुई रितुल जोशी

Related image

खबर सामने आई है कि चैनल की वरिष्ठ पत्रकार रितुल जोशी अचानक गायब हो गई हैं। उनके इस तरह गुप-चुप तरीके से गायब होने पर कयासबाजी का दौर शुरू हो गया है।

रितुल जोशी आज तक में डिप्टी एडिटर की पोस्ट पर काम कर रही थी। माना जा रहा है कि उन्होंने आजतक को अलविदा कह दिया है और वह जल्द ही इंडिया टीवी या न्यूज़ नेशन जॉइन करने वाली हैं।

4. रितुल जोशी ने जॉइन किया CNBC की आवाज़

रितुल जोशी के इस तरह से अचानक गायब होने से दर्शक काफी मायूस थे। इस कड़ी में खबर सामने आई है कि रितुल जोशी ने CNBC की आवाज़ ज्वाइन कर लिया है। CNBC दुनिया भर में एक जाना-माना नाम है। आखिर रितुल जोशी आजतक को छोड़ कर न्यूज़ नेशन जैसे फ्लॉप चैनल में क्यों जाएंगी।

निष्कर्ष: 

गौरतलब है कि गोदी मीडिया के दौर में कई ऐसे पत्रकार आज भी मौजूद है और अपनी अधिकारों और अपनी आज़ादी के साथ समझौता नहीं करते है।

Leave a Reply

Top