आप यहाँ पर हैं
होम > इंडिया (India) > ईवीएम मशीन में गड़बड़ी करने वाले का हुआ पर्दाफाश, खुलासा करते हुए बोला कि…..

ईवीएम मशीन में गड़बड़ी करने वाले का हुआ पर्दाफाश, खुलासा करते हुए बोला कि…..

हम आपको बता दें कि हमारे पूरे देश में ईवीएम मशीन के हैक होने की चर्चाएं बहुत ज्यादा हो रही हैं| यूपी निकाय चुनाव में इस्तेमाल हुई ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी थी जिसके कारण बटन कोई भी दबाओ वोट बीजेपी को ही जाएगा|

sachin rathod hack evm machine ईवीएम मशीन

तब भी चुनाव आयोग इस ओर ध्यान देने को राजी नहीं था| गुजरात में भी चुनाव सर पर थे और वहां से भी VVPAT मशीन की वीडियो और हैक होने की वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही थी|

पकड़ में आ गया ईवीएम मशीन हैक करने वाला

https://hindi.oneindia.com/news/uttar-pradesh/8-donkeys-escaped-from-jail-will-be-work-again-in-jalaun-433989.html

अभी इस ईवीएम मशीन की हैकिंग की सत्यता को लेकर नया मामला तब सामने आया जब शिमला पुलिस ने सचिन राठौर नाम के एक आदमी को गिरफ्तार किया | पुलिस की जांच में ये बात सामने आई और खुद सचिन ने ही इसको कबूल किया है कि भारत के अंदर चुनाव को लेकर प्रयोग होने वाली ईवीएम मशीन को चुटकियों में हैक कर सकता है और किसी को भी जिता सकता है |

भाजपा आईटी सेल में करता था काम

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सचिन राठौर भाजपा की आईटी सेल में काम कर चुका है | अभी हिमाचल प्रदेश  के विधानसभा के चुनाव के चलते सचिन राठौर ने वहां के कई नेताओं से संपर्क किया था और उनसे इस बात का दावा किया था कि वो किसी भी EVM को हैक करके किसी को भी जिता सकता है | सचिन ने चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों से संपर्क किया और उनसे उन्हें जिताने के एवज  में 10-10 लाख रुपयों की मांग की थी |

पुलिस से कुछ नेताओ ने जानकारी कर दी लीक

अब हुआ ऐसा कि कुछ नेताओ ने सचिन का साथ न देते हुए इस मामले की शिकायत चुनाव आयोग से कर दी | इसके बाद शिमला की पुलिस हरकत में आगयी और सचिन के खिलाफ एफ आई आर दर्ज कर ली गयी |

जब सचिन राठौर के खिलाफ केस दर्ज हो गया तो उसको पकड़ने के लिए शिमला पुलिस ने एक टीम का गठन किया और इस टीम ने सफलतापूर्वक सचिन को महाराष्ट्र के नांदेड जिले के किम्वत से गिरफ्तार कर लिया |

पुलिस ने देशद्रोह का बनाया है मामला

सचिन को गिरफ्तार करके शिमला के ही जिला और सत्र नयायाधीश के आवास पर पेश किया गया है | आरोपी के खिलाफ केस बनाते हुए शिमला की पुलिस ने इंडियन पीनल कोड की धारा 502 (2) के तहत गलत जानकारी देने और धारा 1442(ए) के तहत देशद्रोह का मामला बनाया है |

पुलिस ने इस मामले में सफलता पूर्वक गिरफ्तारी के बाद मीडिया से रूबरू होते हुए बताया कि सचिन राठौर ने हिमाचल के तकरीबन 30 नेताओ से मैसेज द्वारा संपर्क करने की कोशिश की थी | अब पुलिस इस बात की जानकारी जुटाने में लगी हुई है कि कितने नेता इस आरोपी की बातों में आगये थे और कितने नहीं |

देखिये वीडियो:-

Leave a Reply

Top